Wednesday, October 28, 2020
Home Education News | Latest Education News Updates ग्रेजुएशन में 50 प्रतिशत अंकों के साथ टेट पास जेबीटी ही बनेंगे...

ग्रेजुएशन में 50 प्रतिशत अंकों के साथ टेट पास जेबीटी ही बनेंगे टीजीटी, हाईकोर्ट ने खारिज की याचिकाएं

शिमला। JBT से TGT पदोन्नति पाने के लिए संबंधित JBT Teacher का स्नातक परीक्षा में कम से कम 50 प्रतिशत अंक और शिक्षक पात्रता परीक्षा (टेट) पास होना जरूरी है। हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने JBT अध्यापकों की उन याचिकाओं को खारिज कर दिया, जिसके तहत स्नातक परीक्षा में 50 फीसदी अंकों की अनिवार्यता वाले नियम में छूट देने की गुहार लगाई गई थी।

न्यायाधीश अजय मोहन गोयल ने प्रार्थियों की याचिकाएं खारिज करते हुए कहा कि यदि सरकार अपने क्षेत्राधिकार में रहते हुए बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए उत्कृष्ट अध्यापक उपलब्ध करवाने के लिए कोई शर्त रखती है तो उस शर्त को मनमाना नहीं ठहराया जा सकता।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का दिया हवाला
कोर्ट ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का हवाला देते हुए स्पष्ट किया कि पदोन्नति पाना कर्मचारी का निहित अधिकार नहीं है बल्कि उसका अधिकार केवल पदोन्नति के लिए उस समय कंसीडर किए जाने का है जब पदोन्नतियां की जा रही हों। कोर्ट ने यह भी स्पष्ट किया कि पदोन्नति नियम उस समय के लागू होते हैं, जिस समय विभागीय पदोन्नति समिति यानी DPC द्वारा किसी प्रत्याशी की योग्यता देखी जानी हो। रिक्तियों के खाली होने के समय के नियम पदोन्नति के लिए लागू नहीं किए जाते।

जानें क्‍या है मामला
शिक्षा विभाग ने 22 अक्तूबर 2009 को टीजीटी भर्ती के लिए नियम लागू किए थे, जिनके तहत 5 वर्ष की नियमित जेबीटी सेवाएं देने वाले अध्यापक को पात्र बनाया गया। योग्यता के तहत प्रत्याशी के पास बीए, बीएड डिग्री होना जरूरी बनाया गया। जेबीटी अध्यापकों को पदोन्नति के लिए 15 प्रतिशत कोटा भी निर्धारित किया गया। 31 मई 2012 को इन नियमों में परिवर्तन कर शर्त लगाई गई कि प्रत्याशी स्नातक में कम से कम 50 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण और टेट पास होना चाहिए। प्रार्थियों का कहना था कि वे स्नातक तो हैं लेकिन 50 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण नहीं हैं। इसी कारण वे टेट पास भी नहीं हैं। प्रार्थियों का कहना था कि वर्ष 2012 से पहले उनके कोटे के तहत जो रिक्तियां हुई थीं, उन्हें पुराने नियमों के तहत ही भरा जाना चाहिए। कोर्ट ने प्रार्थियों की दलीलों से असहमति जताते हुए उनकी याचिकाओं को खारिज कर दिया।

- Advertisment -

Most Popular

अंबाला तक होगा एचआरटीसी की बसों का संचालन, दिल्ली सरकार ने प्रस्ताव को नहीं दी स्वीकृति

शिमला। त्योहारी सीजन शुरू होने को है। ऐसे में अभी तक हिमाचल प्रदेश से दिल्ली के लिए एचआरटीसी की बस सेवा शुरू होने की...

धर्मशाला में जल्द बनेगी अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन अकादमी, साइना नेहवाल की देखरेख में तराशे जाएंगे खिलाड़ी

शिमला। प्रदेश सरकार धर्मशाला में शीघ्र ही International Badminton Academy खोलने जा रही है। इसके लिए सरकार बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल से करार करेगी।...

एक नवंबर से बदल जाएगा सिलेंडर की बुकिंग का नियम, ओटीपी देने के बाद होगी डिलीवरी

नई दिल्ली। एक नवंबर से रसोई गैस से जुड़ा नियम बदलने जा रहा है। पांच दिन बाद गैस सिलेंडर की होम डिलीवरी की प्रक्रिया...

Cabinet Decision: पुलिस कांस्‍टेबल के 1134 पद भरने को मंजूरी, एसएमसी टीचर्स को राहत

शिमला। हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल ने सीधी भर्ती के माध्यम से पुलिस कांस्टेबलों के 1334 रिक्त पदों को भरने के लिए अपनी स्‍वीकृति दी है।...

Recent Comments